Rig Veda‎ > ‎Mandal 01‎ > ‎Sukta 031‎ > ‎

Mantra Rig 01.031.008

MANTRA NUMBER:

Mantra 8 of Sukta 31 of Mandal 1 of Rig Veda

Mantra 3 of Varga 33 of Adhyaya 2 of Ashtak 1 of Rig Veda

Mantra 8 of Anuvaak 7 of Mandal 1 of Rig Veda

 

 

MANTRA DEFINITIONS:

ऋषि:   (Rishi) :- हिरण्यस्तूप आङ्गिरसः

देवता (Devataa) :- अग्निः

छन्द: (Chhand) :- विराट्त्रिस्टुप्

स्वर: (Swar) :- धैवतः

 

 

THE MANTRA

 

The Mantra with meters (Sanskrit)

त्वं नो॑ अग्ने स॒नये॒ धना॑नां य॒शसं॑ का॒रुं कृ॑णुहि॒ स्तवा॑नः ऋ॒ध्याम॒ कर्मा॒पसा॒ नवे॑न दे॒वैर्द्या॑वापृथिवी॒ प्राव॑तं नः

 

The Mantra without meters (Sanskrit)

त्वं नो अग्ने सनये धनानां यशसं कारुं कृणुहि स्तवानः ऋध्याम कर्मापसा नवेन देवैर्द्यावापृथिवी प्रावतं नः

 

The Mantra's transliteration in English

tva no agne sanaye dhanānā yaśasa kāru kṛṇuhi stavāna | dhyāma karmāpasā navena devair dyāvāpthivī prāvata na ॥

 

The Pada Paath (Sanskrit)

त्वम् नः॒ अ॒ग्ने॒ स॒नये॑ धना॑नाम् य॒शस॑म् का॒रुम् कृ॒णु॒हि॒ स्तवा॑नः ऋ॒ध्याम॑ कर्म॑ अ॒पसा॑ नवे॑न दे॒वैः द्या॒वा॒पृ॒थि॒वी॒ इति॑ प्र अ॒व॒त॒म् नः॒

 

The Pada Paath - transliteration

tvam | na | agne | sanaye | dhanānām | yaśasam | kārum | kṛṇuhi | stavāna | dhyāma | karma | apasā | navena | devai | dyāvāpthivī iti | pra | avatam | naḥ ॥


महर्षि दयानन्द सरस्वती  Maharshi Dayaananda Saraswati

०१।०३१।०८

मन्त्रविषयः

पुनस्तदुपासकः प्रजायै कीदृश इत्युपदिश्यते।

फिर परमात्मा का उपासक प्रजा के वास्ते कैसा हो, इस विषय का उपदेश अगले मन्त्र में किया है।

 

पदार्थः

(त्वम्) जगदीश्वरोपासकः (नः) अस्माकम् (अग्ने) कीर्त्युत्साहप्रापक (सनये) संविभागाय (धनानाम्) विद्यासुवर्णचक्रवर्त्तिराज्यप्रसिद्धानाम् (यशसम्) यशांसि कीर्तियुक्तानि कर्माणि विद्यन्ते यस्य तम् (कारुम्) य उत्साहेनोत्तानि कर्माणि करोति तम् (कृणुहि) कुरु अत्र उतश्च प्रत्ययाच्छ्रंदोवावचनम्। अ० ६।४।१०६ अनेन वार्तिकेन हेर्लुक्# (स्तवानः) यः स्तौति सः (ॠध्याम) वर्द्धेम (कर्म) क्रियमाणमीप्सितम् (अपसा) पुरुषार्थयुक्तेन कर्मणा सह। अप इति कर्मनामसु पठितम् निघं० २।१ (नवेन) नूतनेन नवेति नवनामसु पठितम् निघं० ३।२८ देवैः विद्वद्भिः सह (द्यावापृथिवी) भूमि सूर्यप्रकाशौ प्र प्रकृष्टार्थे (प्रावतम्) अवतो रक्षतम् (नः) अस्मान् ॥८॥ #[हेर्लुक् न। सं०]

हे अग्ने कीर्ति और उत्साह के प्राप्त करानेवाले जगदीश्वर वा परमेश्वरोपासक (स्तवानः) आप स्तुति को प्राप्त होते हुए (नः) हम लोगों के (धनानाम्) विद्या सुवर्ण चक्रवर्त्तिराज्य प्रसिद्ध धनों के (सनये) यथायोग्य कार्य्यों में व्यय करने के लिये (यशसम्) कीर्त्तियुक्त (कारुम्) उत्साह से उत्तम कर्म करनेवाले उद्योगी मनुष्य को नियुक्त (कृणुहि) कीजिये जिससे हम लोग नवीन (अपसा) पुरुषार्थ से नित्य-नित्य वृद्धियुक्त होते रहे। और आप दोनों विद्या की प्राप्ति के लिए (देवैः) विद्वानों के साथ करते हुए (नः) हम लोगों की और (द्यावापृथिवी) सूर्यप्रकाश और भूमि को (प्रावतम्) रक्षा कीजिये ॥८॥

 

अन्वयः

हे अग्ने त्वं स्तवानः सन् नोस्माकं धनानां सनये संविभागाय यशसं कारुं कृणुहि सम्पादय यतो वयं पुरुषार्थिनो भूत्वा नवेनापसासह कर्म कृत्वा ॠध्याम नित्यं वर्द्धेम विद्याप्राप्तये देवैः सह युवां नोऽस्मान् द्यावापृथिवी च प्रावतं नित्यं रक्षतम् ॥८॥

 

 

भावार्थः

मनुष्यैरेतदर्थं परमात्मा प्रार्थनीयः। हे जगदीश्वर भवान् कृपयाऽस्माकं मध्ये सर्वासामुत्तमधनप्रापिकानां शिल्पादिविद्यानां वेदि तॄनुत्तमान् विदुषो निर्वर्तय यतो वयं तै सह नवीनं पुरुषार्थं कृत्वा पृथिवीराज्यं सर्वेभ्यः पदार्थेभ्यः उपकारांश्च गृह्णीयामेति ॥८॥

मनुष्यों को परमेश्वर की इस प्रकार प्रार्थना करनी चाहिये कि हे परमेश्वर ! कृपा करके हम लोगों में उत्तम धन देने वाली सब शिल्पविद्या के जानने वाले उत्तम विद्वानों को सिद्ध कीजिये, जिससे हम लोग उनके साथ नवीन-नवीन पुरुषार्थ करके पृथिवी के राज्य और सब पदार्थों से यथायोग्य उपकार ग्रहण करें ॥८॥

 
Comments