Rig Veda‎ > ‎Mandal 01‎ > ‎Sukta 031‎ > ‎

Mantra Rig 01.031.007

MANTRA NUMBER:

Mantra 7 of Sukta 31 of Mandal 1 of Rig Veda

Mantra 2 of Varga 33 of Adhyaya 2 of Ashtak 1 of Rig Veda

Mantra 7 of Anuvaak 7 of Mandal 1 of Rig Veda

 

 

MANTRA DEFINITIONS:

ऋषि:   (Rishi) :- हिरण्यस्तूप आङ्गिरसः

देवता (Devataa) :- अग्निः

छन्द: (Chhand) :- निचृज्जगती

स्वर: (Swar) :- निषादः

 

 

THE MANTRA

 

The Mantra with meters (Sanskrit)

त्वं तम॑ग्ने अमृत॒त्व उ॑त्त॒मे मर्तं॑ दधासि॒ श्रव॑से दि॒वेदि॑वे यस्ता॑तृषा॒ण उ॒भया॑य॒ जन्म॑ने॒ मय॑: कृ॒णोषि॒ प्रय॒ च॑ सू॒रये॑

 

The Mantra without meters (Sanskrit)

त्वं तमग्ने अमृतत्व उत्तमे मर्तं दधासि श्रवसे दिवेदिवे यस्तातृषाण उभयाय जन्मने मयः कृणोषि प्रय सूरये

 

The Mantra's transliteration in English

tva tam agne amtatva uttame marta dadhāsi śravase dive-dive | yas tātṛṣāa ubhayāya janmane maya kṛṇoi praya ā ca sūraye ॥

 

The Pada Paath (Sanskrit)

त्वम् तम् अ॒ग्ने॒ अ॒मृ॒त॒ऽत्वे उ॒त्ऽत॒मे मर्त॑म् द॒धा॒सि॒ श्रव॑से दि॒वेऽदि॑वे यः त॒तृ॒षा॒णः उ॒भया॑य जन्म॑ने मयः॑ कृ॒णोषि॑ प्रयः॑ च॒ सू॒रये॑

 

The Pada Paath - transliteration

tvam | tam | agne | amta-tve | ut-tame | martam | dadhāsi | śravase | dive--dive | ya | tatṛṣāa | ubhayāya | janmane | maya | kṛṇoi | praya | ā | ca | sūraye ॥

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   
महर्षि दयानन्द सरस्वती  Maharshi Dayaananda Saraswati     

०१।०३१।०७

मन्त्रविषयः

पुनरीश्वरो जीवेभ्यः किं करोतीत्युपदिश्यते।

फिर वह ईश्वर जीवों के लिये क्या करता है, इस विषय का उपदेश अगले मन्त्र में किया है।

 

पदार्थः

(त्वम्) जगदीश्वरः (तम्) पूर्वोक्तं धर्मात्मानम् (अग्ने) मोक्षादिसुखप्रदेश्वर (अमृतत्वे) अमृतस्य मोक्षस्य भावे (उत्तमे) सर्वथोत्कृष्टे (मर्त्तम्) मनुष्यम् मर्त्ता इति मनुष्यनामसु पठितम्। निघं० २।३ (दधासि) धरसि (श्रवसि) श्रोतुमर्हाय भवते (दिवेदिवे) प्रतिदिनम् (यः) मनुष्यः (तातृषाणः) पुनःपुनर्जन्मनि तृष्यति। अत्र छन्दसि लिडिति लडर्थे लिट् लिटः कानज्वेति कानच् वर्णव्यत्ययेन दीर्घत्वं च (उभयाय) पूर्वपराय (जन्मनि) शरीरधारणेन प्रसिद्धाय (मयः) सुखम्। मय इति सुखनामसु पठितम् निघं० ३।६ (कृणोषि) करोषि (प्रयः) प्रीयते काम्यते यत् तत्सुखम् () समन्तात् () समुच्चये (सूरये) मेधाविने। सूरिरिति मेधाविनामसु पठितम् निघं० ३।१ ॥७॥

हे (अग्ने) जगदीश्वर आप (यः) जो (सूरि) बुद्धिमान् मनुष्य (दिवेदिवे) प्रतिदिन (श्रवसे) सुनने के योग्य आपके लिये मोक्ष को चाहता है उस (मर्त्तम्) मनुष्य को (उत्तमे) अत्युत्तम (अमृतत्वे) मोक्षपद में स्थापन करते हो और जो बुद्धिमान् अत्यन्त सुख भोगकर फिर (उभयाय) पूर्व और पर (जन्मने) जन्म के लिये चाहना करता हुआ उस मोक्षपद से निवृत्त होता है उस (सूरये) बुद्धिमान् सज्जन के लिये (मयः) सुख और (प्रयः) प्रसन्नता को (आ कृणोषि) सिद्ध करते हैं ॥७॥

 

अन्वयः

हे अग्ने जगदीश्वर त्वं यः सूरिर्मेधावी दिवेदिवे श्रवसे सन्मोक्षमिच्छति तं मर्त्तं मनुष्यमुत्तमेऽमृतत्वे मोक्षपदे दधासि यश्च सूरिर्मेधावी मोक्षसुखमनुभूय पुनरुभयाय जन्मने तातृषाणाः सँस्तस्मात्पदान्निवर्त्तते तस्मै सूरये मयः प्रयश्चाकृणोषि ॥७॥

 

 

भावार्थः

ये ज्ञानिनो धर्मात्मानो मनुष्या मोक्षपदं प्राप्नुवन्ति तदानीं तेषामाधार ईश्वर एवास्ति। यज्जन्मातीतं तत्प्रथमं यच्चागामि तद्वीतीयं यद्वर्तते तत्तृतीयं यच्च विद्याचार्याभ्यां जायते तच्चतुर्थम्। एतच्चतुष्ट्यं मिलित्वैकं जन्मयत्र मुक्तिं प्राप्य भुक्त्वा पुनर्जायते तद्द्वितीयजन्मैतदुभयस्य धारणाय सर्वे जीवाः प्रवर्तन्त इतीयं व्यवस्थेश्वराधीनास्तीति वेद्यम् ॥७॥       

जो ज्ञानी धर्मात्मा मनुष्य मोक्षपद को प्राप्त होते हैं उनका उस समय ईश्वर ही आधार है जो जन्म हो गया वह पहिला और जो मृत्यु वा मोक्ष होके होगा वह दूसरा, जो है वह तीसरा और जो विद्या वा आचार्य से होता है वह चौथा जन्म है ये चार जन्म मिलके जो मोक्ष के पश्चात् होता है वह दूसरा जन्म है इन दोनों जन्मों के धारण करने के लिये सब जीव प्रवृत्त हो रहे हैं मोक्षपद से छूटकर संसार की प्राप्ति होती है यह भी व्यवस्था ईश्वर के आधीन है ॥७॥

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  
Comments