Rig Veda‎ > ‎Mandal 01‎ > ‎Sukta 031‎ > ‎

Mantra Rig 01.031.003

MANTRA NUMBER:

Mantra 2 of Sukta 31 of Mandal 1 of Rig Veda

Mantra 2 of Varga 32 of Adhyaya 2 of Ashtak 1 of Rig Veda

Mantra 2 of Anuvaak 7 of Mandal 1 of Rig Veda

 

 

MANTRA DEFINITIONS:

ऋषि:   (Rishi) :- हिरण्यस्तूप आङ्गिरसः

देवता (Devataa) :- अग्निः

छन्द: (Chhand) :- निचृज्जगती

स्वर: (Swar) :- निषादः

 

 

THE MANTRA

 

The Mantra with meters (Sanskrit)

त्वम॑ग्ने प्रथ॒मो अङ्गि॑रस्तमः क॒विर्दे॒वानां॒ परि॑ भूषसि व्र॒तम् वि॒भुर्विश्व॑स्मै॒ भुव॑नाय॒ मेधि॑रो द्विमा॒ता श॒युः क॑ति॒धा चि॑दा॒यवे॑

 

The Mantra without meters (Sanskrit)

त्वमग्ने प्रथमो अङ्गिरस्तमः कविर्देवानां परि भूषसि व्रतम् विभुर्विश्वस्मै भुवनाय मेधिरो द्विमाता शयुः कतिधा चिदायवे

 

The Mantra's transliteration in English

tvam agne prathamo agirastama kavir devānām pari bhūasi vratam | vibhur viśvasmai bhuvanāya medhiro dvimātā śayu katidhā cid āyave 

 

The Pada Paath (Sanskrit)

त्वम् अ॒ग्ने॒ प्र॒थ॒मः अङ्गि॑रःऽतमः क॒विः दे॒वाना॑म् परि॑ भू॒ष॒सि॒ व्र॒तम् वि॒ऽभुः विश्व॑स्मै भुव॑नाय मेधि॑रः द्वि॒ऽमा॒ता श॒युः क॒ति॒धा चि॒त् आ॒यवे॑

 

The Pada Paath - transliteration

tvam | agne | prathama | agira-tama | kavi | devānām | pari | bhūasi | vratam | vi-bhu | viśvasmai | bhuvanāya | medhira | dvi-mātā | śayu | katidhā | cit | āyave 


महर्षि दयानन्द सरस्वती  Maharshi Dayaananda Saraswati

०१।०३१।०३

मन्त्रविषयः

पुनस्तौ कीदृशावित्युपदिश्यते।

फिर वे दोनों कैसे हैं, यह उपदेश अगले मन्त्र में किया है।

 

पदार्थः

(त्वम्) ईश्वरः सभाध्यक्षोवा (अग्ने) विज्ञापक (प्रथमः) कारणरूपेणाऽनादिर्वा कार्य्येष्वादिमः (मातरिश्वने)* यो मातर्याकाशे श्वसितिसोयं मातरिश्वा वायुस्तत्प्रकाशाय (आविः) प्रसिद्धार्थे (भव) भावय (सुक्रतुया) शोभनः क्रतुः प्रज्ञाकर्मवायस्मात् तेन। अत्र सुपां सुलुगितियाडादेशः (विवस्वते) सूर्यलोकाय (अरेजेताम्) चलतः। भ्यसतेरेजत इति भयवेपनयोः। निरु० ३।२१ (रोदसी) द्यावापृथिव्यौ। रोदसी इति द्यावापृथिवीनामसु पठितम् निघं० ३।३० (होतृवूर्ये) होतॄणां स्वीकर्त्तव्ये। अत्र वॄवरणे इत्थस्माद्बाहुलकादौणादिकः क्यथ्प्रत्ययः। उदोष्ठ्य पूर्वस्य। अ० ७।१।१०२ इत्यॄकारस्योकारः। हलिचेति दीर्घश्च (असघ्नोः) हिंस्याः (भारम्) (अयजः) संगमयसि (महः) महान्तम् (वसो) वासयति सर्वान् यस्तत्सम्बुद्धौ ॥३॥ *[मातरिऽश्वने ।सं०]

हे (अग्ने) परमात्मन् वा विद्वन् (प्रथमः) अनादि स्वरूप वा समस्त कार्यों में अग्रगंता (त्वम्) आप जिस (सुक्रतुया) श्रेष्ठ बुद्धि और कर्मों को सिद्ध करानेवाले पवन से (होतृवूर्ये) होताओं को ग्रहण करने योग्य (रोदसी) विद्युत् और पृथिवी (अरेजेताम्) अपनी कक्षा में घूमा करते हैं उस (मातरिश्वने) अपनी आकाश रूपी माता में सोनेवाले पवन वा (विवस्वते) सूर्य लोक के लिये उनको (आविः भव) प्रकट कराइये है (वसो) सबको निवास करानेहारे आप शत्रुओं को (असघ्नोः) विनाश कीजिये जिनसे (महः) बड़े-बड़े (भारम्) भारयुक्त यान को (अयजः) देश-देशान्तर में पहुंचाते हो उनका बोध हमको कराइये ॥३॥ 

 

अन्वयः

हे अग्ने जगदीश्वर विद्वन् वा प्रथमस्त्वं येन सुक्रतुया मातरिश्वना होतृवूर्ये रोदसी द्यावापृथिव्यावरेजेतां तस्मै मातरिश्वने विवस्वते चाविर्भवैतौ प्रकटी भावय हेवसो याभ्यां महोभार मयजो यजसि तौनोबोधय ॥३॥

 

 

भावार्थः

कारणरूपोग्निः स्वकारणाद्वायुनिमित्तेन सूर्याकृतिर्भूत्वा तमोहत्त्वा पृथिवी प्रकाशौ धरति स यज्ञ शिल्पहेतुर्भूत्वा कलायन्त्रेषु प्रयोजितः सन् महाभारयुक्ता न्यपियानानि सद्योगमयतीति ॥३॥

कारणरूप अग्नि अपने कारण और वायु के निमित्त से सूर्यरूप से प्रसिद्ध तथा अन्धकार विनाश करके पृथिवी व प्रकाश का धारण करता है वह यज्ञ वा शिल्पविद्या के निमित्त से कला यन्त्रों में संयुक्त किया हुआ बड़े-बड़े भारयुक्त विमान आदि यानों को शीघ्र ही देश-देशान्तर में पहुंचाता है ॥३॥

Comments